अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.31.2016


भीतर का ठहराव

मैं पाता हूँ कभी – कभार
एक ठहराव अपने भीतर
कर देना चाहता हूँ क़लमबद्ध
अनेक पीड़ाओं को
और साथ ही
अकस्मात उभर आये
अपरिभाषित खालीपन को।

क़लम को काग़ज़ पर टिका कर
देना चाहता हूँ मूर्त रूप शब्दों का
मगर सियाचिन के ग्लेशियरों की मानिंद
शून्य हो जाता है जैसे तापमान भीतर का।

शब्द चाहते हैं आकार पाना
मगर जम जाते हैं जैसे
ज़हन में ही कहीं
कड़कड़ाती ठण्ड के
कोहरे की तरह।

भीतर का यह जमघट
बढ़ने लगता है जब कभी
ठोस रूप लेकर
तो महसूस करता हूँ
एक भारीपन अंदर तक
चाहता हूँ कि
यह गतिशील और प्रवाहमान रहे
सदैव ही।

ये ठहराव कष्टकारक है
बहना पर्याय है जीवन का
भीतर की सरिता का बहाव ही
तय करेगा
नए रास्ते
नए आयाम
और नई मंज़िलें ...!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें