मनोहर लाल 'रत्नम


कविता

कील पुरानी है
गंगाजल
रिश्तों पर दीवारें
सीपों से मोती पाने को