अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
ज़िन्दगी के रंग
मंजु महिमा भटनागर

कई अजब रंग लेकर आती है ज़िन्दगी

बबूलों के साए में,

इंच इंच छाँव लिए,

गहराती प्यास में,

बूँद बूँद रस लिए,

दर्दिले मोड़ों पर मुस्काती ज़िन्दगी,
                                                 
कई अजब रंग...

मंहगाई के दामन में,

माँगों की सूची लिए,

कटोती के पैबन्दों से,

हसरतों की चाह में

सजनी के आँचल सी सजती है ज़िन्दगी,
                                                   
कई अजब रंग...

चाहत के पंखों में,

सपनों को सिमटाए,

बेबसी के अंडों को,

जीवन की उम्मीद में

खुशी खुशी सेती है ज़िन्दगी,
                            कई अजब रंग...

अरमानों की थाली में

रंग-बिरंगी गुलाल लिए,

सुख-दुख के गालों पर,

कसमसे से अहसासों को,

कैसे मस्ती से मलती है ज़िन्दगी,
                               कई अजब रंग...



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें