अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.25.2014


पुलोवर

उसे बुनना तो था पुलोवर
पर
इसलिये नहीं कि
तुम्हें जाड़ा ना लगे!

करने को कोई काम नहीं था
फिर समय भी कटता है
और लेटेस्ट डिज़ाईन की बातें भी
करने को सहेलियों से

उसे बुनने दो पुलोवर
तुम भूल जाओ
की तुम्हें जाड़ा लगता है
या फिर यह
की तुम पहन सकते हो
किसी की बनाई परिधि

एक कर सकते हैं;
बाहों की गरमी बाँट लेते हैं
हमार भी पुलोवर बन रहा है
कई जाड़ों से।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें