अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.01.2015


इन रास्तों का अकेलापन

इन बर्फ़ीली सर्द वादियों में
आज अकेले ख़ामोश से रस्तों पे
बहुत दूर तक चलता रहा

इन रास्तों का अकेलापन
बिलकुल मेरे अकेलेपन जैसा है
धुँधलके और इंतज़ार से भरा हुआ

बर्फ बेबसी की है
धुँधलका अनिश्चितता का
और रास्ता सिर्फ उम्मीद का

मैं और ये रास्ते
किसी के इंतज़ार में हैं
हमें किसी का इंतज़ार है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें