महिमा बोकारिया


कविता

क्या जीत लिखूँ क्या
जाना ही था तो ज़िंदगी में ...
रिश्ता हमारा और भी ....
बना रहूँ सदा मनमीत
जिस मोड़ से गुरो