अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.11.2014


तेरी यादों का कोहरा

ये,
तेरी यादों का कोहरा,
तेरी यादों की बूँदें,
तेरी यादों का साया,
तेरी यादों का पहरा,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।

तेरी बातों के बादल,
तेरी बातों की राहें,
तेरी बातों का हँसना,
तेरी बातों की पगडण्डियाँ,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।

तुझे कहने वाले भाव,
तुझे लाने वाले क्षण,
तुझे बताने वाली सांसें,
तुझसे आने वाली लौ ,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें