अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.08.2016


पानी

पानी ज़िन्दा लगता है
समुद्र में चलते
उछलते-कूदते, गरजते,
उड़ते हुए, ओस में ढलते
बर्फ़ बनते, बादलों में सरकते
ज़िन्दगी को गीला करते
गले से नीचे उतरते
आँसुओं में झड़ते
नदियों में बहते, ताल में रहते
वृक्षों को सींचते
बरसात में बरसते।
पानी ज़िन्दा लगता है
तुम्हारी, मेरी तरह।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें