अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.17.2016


हम दौड़ते रहे

हम सत्य के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम झूठ के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम प्यार के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम जीवन के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिला, कुछ नहीं मिला
कुछ खो गया।
हम राहों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।
हम रिश्तों के पीछे दौड़ते रहे
कुछ मिले, कुछ नहीं मिले
कुछ खो गये।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें