अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.28.2008
 

सीधा सा शहर
महेश मूलचंदानी


क्यों खामोश हो ........?
क्यों चुप चुप से हो ......?
मेरे शहर
बस इसलिए
कि तुम्हारा नाम
अखबारों की सुर्खियों में
नहीं आता
सच्चाई और सीधेपन की वजह से
तू अखबारों मे नहीं छप पाता
इसलिए दुखी हो ना
किन्तु
तुम्हें तो खुश होना चाहिए
तुम्हारे यहाँ
बलात्कार, चोरी, दंगा और कत्ल जैसे
संगीन अपराध नहीं होते
और तुम्हारा नाम अखबारों में
नहीं छप पाता
तुम्हें तो गर्व होना चाहिए
तू इन बुराइयों से
दूर ही रहा
अछूता ही रहा
तू अखबारों में न आया
न ही आना
अच्छा है
तू बना रहे अंजाना
अच्छा है
तू बना रहे अंजाना


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें