अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.03.2012


होली के दिन एक नवजवान मच्छर बौरा गया

होली के दिन एक नवजवान मच्छर बौरा गया,
भंग भरे ठंडाई के मटके पर उड़कर आ गया।
भंग की भीनी ख़ुशबू से मुँह में पानी आने लगा
तो लगाकर छलाँग ठंडाई के मटके में समा गया।

बाहर निकाली अपनी लम्बी पिचकारीनुमा चोंच,
फिर शास्त्रीय तान की तरह खूब भंग चढ़ा गया।
पूरी तरह छक जाने पर ली अँगड़ाई एक लम्बी सी,
और मदमस्त हो मच्छरनी की तलाश में चला गया।

मच्छरनी एक सज्जन का खून चूसने में थी व्यस्त,
मच्छर सजनी के काले कुंतल केशों पर छा गया।
कथक, पौप और ब्रेकडांस आदि किये सभी नृत्य,
फिर बालों पर बैठा और गालों को सहला गया।

तब तक मच्छर पर भंग का नशा था छाने लगा,
पुरुष व स्त्री का अंतर भूल सज्जन पर आ गया।
वह सजनी के साथ उसकी हरकतों से जले बैठे थे,
मारा ऐसा झापड़ कि उसे छठी का दूध याद आ गया।



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें