अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
समता का गान [परिप्रेक्ष्य होली]
डॉ. महेंद्र भटनागर

मानव समता के रंगों में
                                               आज नहा लो !

सबके तन पर, मन पर है जिन चमकीले रंगों की आभा,
उन रंगों में आज मिला दो अपनी मंद प्रकाशित द्वाभा,
युग-युग संचित गोपन कल्मष
                                             आज बहा दो !

भूलो जग के भेद-भाव सब — वर्ण-जाति के, धन-पद-वय के,
गूँजे दिशि-दिशि में स्वर केवल मानव महिमा गरिमा जय के,
मिथ्या मर्यादाओं का मद-गढ़
                                           आज ढहा दो !

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें