अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
प्रधूपिता से -
डॉ. महेंद्र भटनागर

ओ विपथगे !
जग-तिरस्कृत,

माँग को
सिन्दूर से भर दूँ !

सहचरी ओ !
मूक रोदन की -
कंठ को
नाना नये स्वर दूँ !

ओ धनी !
अभिशप्त जीवन की -

तुझे उल्लास का वर दूँ !

ओ नमित निर्वासिता !


नील कमलों से
घिरा घर दूँ !

वंचिता ओ !
उपहसित नारी-
अरे आ
रुक्ष केशों पर
विकंपित
स्नेह-पूरित
उँगलियाँ धर दूँ !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें