अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
कचनार
डॉ. महेंद्र भटनागर

पहली बार
           मेरे द्वार
              रह-रह
                 गह-गह
                    कुछ ऐसा फूला कचनार
                        गदराई हर डार!

इतना लहका
           इतना दहका
              अन्तर की गहराई तक
                  पैठ गया कचनार!

जामुन रंग नहाया
              मेरे गैरिक मन पर छाया
                  छ्ज्जों और मुँडेरों पर
                    जम कर बैठ गया कचनार!

पहली बार
        मेरे द्वार
           कुछ ऐसा झूमा कचनार
              रोम-रोम से जैसे उमड़ा प्यार!
                 अनगिन इच्छाओं का संसार!
                     पहली बार
                        ऐसा अद्‌भुत उपहार!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें