अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.27.2016


तलाश

"मैं तो ख़लील जिब्रान बनूँगा ताकि कुछ कालजयी रचनाएँ मेरे नाम पर दर्ज़ हों," एक अति उतावला होकर बोला। हम सब उसे देखने लगे। हम सबकी आँखों के आगे हवा में ख़लील जिब्रान की उत्कृष्ट रचनाएँ तैरने लगीं।

दरअसल काफ़ी समय बाद मुलाक़ात में हम पाँच लेखक इकट्ठा हुए। सभी एक-दूसरे से अच्छी तरह परिचित। पाँचों पांडवों की तरह हम सब लेखन के हुनर के धुरंधर योद्धा। अतः हम पाँचों के मध्य समय-समय पर साहित्य के अलावा विविध विषयों पर आत्ममंथन, गहमा-गहमी, टकराव, गतिरोध, वाद-विवाद, आलोचना, टीका-टिप्पणी आदि का दौर चलता रहता था। आज का विषय बातों-बातों में यूँ ही बनता चला गया। बात चली कि हम साहित्य कैसा रचें? हमारे इर्द-गिर्द साहित्य की भीड़ है। हम किनका अनुकरण करें! या किस शिखर बिंदु को छूएँ?

"मैं ओ’ हेनरी बनना चाहूँगा। उसके जैसी कथा-दृष्टि अन्यत्र नहीं दिखती।" पहले शख़्स का उतावलापन देखकर दूसरे ने भी जोश के साथ अपने होने की पुष्टि कर दी। हम सभी का ध्यान अब उसकी ओर गया। ओ’ हेनरी की अमर कथा-कहानियाँ "बीस साल बाद", "आख़िरी पत्ती", "उपहार", और "ईसा का चित्र" आदि हम सबके दरमियान वातावरण में घूमने लगीं।

"मुझे चेख़व समझो," तीसरे ने ऐसे कहा, जैसे चेख़व उसका लंगोटिया यार हो। बड़े गर्व से हम तीसरे की तरफ़ देखने लगे। चेख़व का तमाम रूसी साहित्य अब हमारे इर्द-गिर्द था।

"और आप...!" मैंने सामने बैठे व्यक्ति से कहा।

"भारतीयता का पक्ष रखने के लिए मैं प्रेमचंद बनना चाहूँगा," उन चौथे सज्जन ने भी साहित्य के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया।

मैं मन-ही-मन सोच-विचार में डूब गया। "काश! इन सबने दूसरों की तरफ़ देखने की जगह अपनी रचनाओं में ख़ुद को तलाशने की कोशिश ..." अभी मैं इतना ही सोच पाया था कि भावी प्रेमचंद ने मुझे झकझोर कर मेरी तन्द्रा तोड़ी, "और आप क्या बनना चाहोगे महाशय?"

"मैं क्या कहूँ? अभी मेरे अंदर ख़ुद की तलाश ज़ारी है। जिस दिन पूरी होगी... तब शायद मैं भी कुछ ...," आगे के शब्द मेरे मुख में ही रह गए और मैं भविष्य के महान साहित्यकारों की सभा से उठकर चला आया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें