अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.08.2016


 भोग

"आ ठकुराइन... आ बैठ," मंदिर के पुजारी पंडित राम आसरे ने अपने सामने बड़े आदर-सत्कार के साथ बूढ़ी ठकुराइन को बिठाया और शाम के समय ईश्वर को चढ़ाया जाने वाला प्रसाद, ठकुराइन के सामने परोस दिया।

"भोजन ग्रहण करो ठकुराइन... राधा बिटिया ने बड़े मन से बनाया है," पुजारी जी ने आग्रह किया और ठकुराइन की आँखें छलछला आईं। यह देखकर पुजारी जी की बिटिया राधा क्रोधित हो गई लेकिन चुपचाप रही।

"राधा ज़रा लौटे में जल तो भर ला बेटी," पंडित जी ने बिटिया को आदेश दिया।

भोजन के उपरान्त लाख-लाख आशीष देकर ठकुराइन लाठी टेकती हुई वहाँ से चली गई। मंदिर की सीढ़ियाँ उतरने में पुजारी जी ने भी ठकुराइन की सहायता की।

जब पुजारी जी मंदिर में वापिस लौटे तो बिटिया को क्रोधित अवस्था में देखकर चौंके।

"बाबा आपने ऐसा क्यों किया? मैंने बड़े जतन से ठाकुर जी के लिए प्रसाद बनाया था और आपने ठकुराइन को खिला दिया," राधा के स्वर में खिन्नता झलक आई।

"बिटिया तुम्हारा क्रोध करना उचित है। तुम तो जानती ही हो कि दो महीने पहले जब ठाकुर साहब का निधन हुआ था तो ठकुराइन के दोनों निकम्मे बेटों धीरू और वीरू ने सारे सामान और सम्पति के साथ-साथ माँ का भी बँटवारा कर दिया। यह तय किया कि एक-एक दिन छोड़कर दोनों माँ को भोजन देंगे। इस तरह आधे महीने एक बेटा भोजन देगा तो आधे महीने दूसरा। वीरू परसों अपनी पत्नी के साथ साले की शादी करने हेतु ससुराल चला गया। चौधरी को यह कहकर कि दो दिन में वीरू अपने ससुराल से लौट आएगा। इस बीच एक दिन का भोजन तो चौधरी ने करवा दिया। अगले दिन धीरू ने भी अपने हिस्से का भोजन ठकुराइन को करवा दिया मगर वीरू आज भी अपने ससुराल से नहीं लौटा है। इसलिए ठकुराइन सुबह से भूखी-प्यासी बैठी थी। आज किसी ने भी ठकुराइन को भोजन के लिए नहीं पूछा। रास्ते में अचानक मेरी भेंट ठकुराइन से हुई तो सारी बात का पता चला। ठकुराइन ने बड़ी व्याकुलता से कहा था, "पंडित जी साँझ होने को आई है और मैं सुबह से भूखी हूँ।" इतनी कहानी कहने के उपरांत पंडित जी ने राधा से ही प्रश्न किया, "अब तू ही फ़ैसला कर बेटी... गाँव का एक व्यक्ति सुबह से भूखा है और हम भोजन कर रहे हैं तो हमसे बड़ा नीच कौन होगा? पत्थर के ठाकुरजी तो एक वक़्त का उपवास सह सकते हैं लेकिन हाड़-मांस की ठकुराइन वृद्धावस्था में पूरे एक दिन भूख कैसे बर्दाशत करेगी?" कहते-कहते पुजारी जी की आँखें भर आईं, "बेटी, सही अर्थों में मेरी जीवन भर की पूजा-अर्चना आज सफ़ल हुई है।"

"बाबा...!" राधा की आँखों में आँसू थे और अपने पिता के लिए गर्व भी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें