अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.01.2016


बीती बातें याद न कर

बीती बातें याद न कर
जी में चुभता है नश्तर

हासिल कब तक़रार यहाँ
टूट गए कितने ही घर

चाँद-सितारे साथी थे
नींद न आई एक पहर

तनहा हूँ मैं बरसों से
मुझ पर भी तो डाल नज़र

पीर न अपनी व्यक्त करो
यह उपकार करो मुझ पर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें