अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.24.2009
 

 बरसती बारिशों की धुन पे लम्हें गुनगुनाते हैं
मधुप मोहता


बरसती बारिशों की धुन पे लम्हें गुनगुनाते हैं
वो बरबस याद आते हैं, बरस यूँ बीत जाते हैं

किसी गुमनाम बस्ती के किसी अनजान रस्ते पर
मिला वो अजनबी, तो क्यूँ लगा, जन्मों के नाते हैं

कहानी की किताबों में न ढूँढो प्यार का मतलब
ये इक सैलाब है, इसमें किनारे डूब जाते हैं

नई तह्ज़ीब है, बाज़ार खुलने पे ये तय होगा
किसे वो भूल जाते हैं, किसे अपना बनाते हैं

मुहब्बत एक धोखा है, उसे अब कौन समझाए
न क़समें हैं न वादे हैं, न रिश्ते हैं, न नाते हैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें