मधुप मोहता


दीवान

दर्द के क़िस्सों की ख़ातिर
बरसती बारिशों की धुन पे