अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.14.2014


माँ की गोद

माँ की गोद,
प्रेम से ओत-प्रोत।
अनवरत ज्ञान का स्रोत
अच्छे-बुरे का कराती बोध।
बच्चे करें कभी विरोध
शांत करती उनका क्रोध।

अफ़सोस ...
अब न मिलेगी माँ की वह गोद,
प्रेम से थी जो ओत-प्रोत।
मगर ...
सूख न जाए कहीं वह ज्ञान का स्रोत,
और वापिस न आ जाए विरोध औ' क्रोध,
सो सदा याद रखूँगी
माँ की वह हँसी और विनोद,

माँ की गोद,
प्रेम से थी जो ओत-प्रोत।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें