अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.31.2017


रच लेता है अक्सर

आज का कवि
मामूली चीज़ों पर
रच लेता है अक्सर
ग़ैर मामूली कविताएँ

मसलन
उपले थेपती
उस मरियल सी साँवली युवती को
बना लेता है
कविता की नायिका
सामने से जिसके
ख़ुशबू के झोंके की तरह
गुज़री है एक मेम
कोहनी-कोहनी तक
मेंहदी सजाये;
युवती अनजाने ही
उपले पाथना भूल
अपने में खोयी
मांडने लगती है लकीरें उसी गोबर से
और निरखती है
मेंहदी के रचाव में जैसे
उग आयीं हो फूल-पत्तियाँ

वह
उस नन्हीं सी लड़की को भी
बाँध लेता है शब्द चित्र में
जो
उतनी ही नन्हीं साइकिल पर
लगा रही होती है एड़
दम भरकर
पसीने से तरबतर
लड़के आगे निकल गए हैं
वह निकल जाना चाहती है उनसे भी आगे

कवि
उस लड़के को भी नहीं भूल पाता
जिसकी उम्र है अभी पढ़ने की
मगर
सौंप दी है पिता ने ज़िम्मेदारी
ज़िन्दगी से लड़ने की
वह चाय बेचता है
और ग्राहकों को लुभाने के लिये
निकालता है तरह-तरह की आवाज़ें
कौए, मोर, शेर की
कभी-कभी
फोन की घंटियाँ भी बज उठती हैं
उसके कंठ में,
चुस्कियाँ लेते हुए हँसते हैं ग्राहक
कवि हँस नहीं पाता
रचता है कविता

प्रायः ऐसा भी होता है
कि
दुनिया जहान में भटक कर
जब वह
शाम को पहुँचता है घर
पत्नी की आँखों में
भिंडी, बैंगन और टमाटर की तरह
उगे दिखाई देते हैं
अनगिनत प्रश्न
वह खिसियाकर
गुनगुनाता है एक रोमांटिक सी कविता
किचन की तरफ मचलती पत्नी को
बाँहों मे भरने की
करता है निष्फल चेष्टा
न जाने क्यों अचानक
भर्रा जाता है गला उसका
गोया रोमान्टिक कविता की ठौर
सुना रहा हो कोई शोकगीत

जो कवि
रचता रहा है अक्सर
मामूली चीज़ों पर ग़ैर मामूली कविताएँ
इस दृश्य को
लाख कोशिश के बावजूद
नहीं ढाल पाता शब्दों में
जैसे यह कोई
ग़ैर मामूली अनुभूति हो
लेखनी से परे
शब्दों के पार


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें