अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.28.2019


उजले सपने धुंधली यादें

कुछ उजले-उजले सपने हैं
कुछ धुंधली-धुंधली यादें हैं
मेरे साथ सफ़र में और
सामान कुछ भी नहीं

जो तेरी रोशन आँखों में दिखे थे
जो तूने मुझसे ना कहे थे
बस वो ही हैं
मेरे साथ सफ़र में और
अरमान कुछ भी नहीं

मैं तेरा हूँ, तुझसे हूँ, तेरे लिए हूँ
बस ये ही है
मेरे साथ सफ़र में और
पहचान कुछ भी नहीं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें