अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.07.2014


श्रमेव जयते

भाग्य के बैठे भरोसे
नहीं किसी ने दिन सुधारे।
सीढ़ियाँ चढनी पड़ेंगी
देखने को गगन तारे।

पालनी होगी हमें ज़िद
लक्ष्य पाने को हमारे।
काम कम आते अपेक्षित
दूसरों के बल सहारे।

की देरी साधने श्रम
तन व मन श्रम हीन होगा।
बाँध मुट्ठी, बन प्रहारी
काम स्वप्नों से न होगा।

छोड़ आलस; मत 'हवा में-
पुल' बना, टिकता नहीं है।
कर्म से करना किनारा
'डुबा देते हित' सही है।

ईश्वर भी नहीं देता
आलसी नर को सहारे।
भाग्य के बैठे भरोसे
नहीं किसी ने दिन सुधारे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें