अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.07.2014


कैसे उड़ें गगन

हलके मन से तन भारी,
कैसे उड़ें गगन।

पैर मिले, चल लेते हैं
लेकर भारी तन।
मन ही मन, हँस कर अपने
भूले कष्ट, विघन।

नौ माह तक माँ गर्भ में
मुट्ठी कसा बदन।
आँखें जब से खुलीं जगत में
तब से जगा रुदन।

सोते में हँसना-रोना
शैशव के स्पन्दन।
मृत्यु तक चैतन्य मन को
बाँधे रखे सघन।

तन हलकाने की इच्छा
करती रही हवन।
हर बार, होम ही हारा
जितने किये जतन।

हलके मन से तन भारी,
कैसे उड़ें गगन।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें