अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.07.2014


हम आम आदमी

वही वही मकड़ जाल
बुनते हैं सुबह शाम
हम आदमी है आम

उठने से सोने तक
कहता हूँ मरा मरा
जानूँ न समझूँ राम।

अन्यों को देख देख
मुँह में न थमे लार
तृषा को नहीं लगाम।

मानव है बगुले सा
रूप धर योगी का
जोड़ता है धन-धाम।

दोष क्यों देते हमें
कुसंस्कारित कर रहे
कलियुग के तामझाम।

रूप आम के तमाम
दशहरी, तोतापरी
चौसा, नीलम, बदाम।

खास लोगों के लिये
कटते पिटते है हम
बने रहते गुमनाम।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें