लावण्या शाह


कविता

बीती रात का सपना
सौगात
हर बार ज़िंदगी जीत गई!