अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.03.2008
 

अँधेरों के दिन
लक्ष्मी शंकर वाजपेयी


बदल गए हैं अँधेरों के दिन
अब वे नहीं निकलते
सहमें, ठिठके, चुपके चुपके रात के वक़्त
                    वे दिन दहाड़े घूमते हैं बस्ती में
                    सीना ताने
                    क़हक़हे लगाते
                    वे नहीं डरते उजालों से


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें