लक्ष्मी शंकर वाजपेयी


कविता

अँधेरों के दिन
चिन्ता
महानगर में विदाई
रात गए फोन
वे लोग
संकेतों की भाषा