अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.22.2009
 

फूलों को हँसते देखा है
कुसुम सिन्हा


पूरब के नभ से धरती पर जब फैली सोने की चादर
किरणों में फिर नहा नहा फूलों को हँसते देखा है

हुई प्रस्फुटित जब कलिकाएँ मुस्काती जब फूल बनीं
प्यार हुआ तब उदित हृदय में तन मन रँगते देखा है

जब किसी शिशु को देखा मैंने फूलों से होठों से हँसते
अपने ही शैशव की छवि को उनमें प्रतिबिम्बित देखा है

भँवरे जब गुनगुन के स्वर में गीत प्रणय के गाते हैं
कलियों को तब चटक चटक फूलों में ढलते देखा है

बादल के पीछे मुस्काता आ जाता है चाँद गगन में
मन में सोए सपनों को तब रूप नए धरते देखा है

चली हवा जब मतवाली सी पेड़ों से टकराती सी
हाथ हिलाकर मुझे बुलाती कुछ-कुछ कहते देखा है

किसी शाम को कभी श्याम घन छा जाते हैं अंबर में
आँसू की बूँदों मे तेरी यादों को ढलते देखा है

वर्षा की बूँदे जब झर-झर तन मन सिहरा जाती हैं
मन के आँगन में फिर से चाह नई उगते देखा है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें