कुमारी अर्चना

कविता
ओर्चिड हूँ मैं
तुम बिन अस्तित्व में
मेरे गुलमोहर