अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.05.2008
 
ऊब
कुमार लव

             कहती है -
बहुत थक गई है,
मुझे सुन-सुन के
हर बारे में।

बार बार
वही सब,

अब बस।
कुछ नहीं
जो साथ साथ कर सकें।
कुछ नहीं
जो एक-दूसरे से करा सकें।
हमेशा हमेशा की तलाश में
अब और नहीं सहना।

अब बस।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें