अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.05.2008
 
तो जगा देना।
कुमार लव

सो जाऊँ,
तो जगा देना।

मेरे साथ
सपनों के पीछे भागना,
न मिलें
तो भुला देना।

थक जाऊँ,
तो सुला देना। \

नींद में पूछूँ
क्या वक्त हुआ है,
अभी देर है
कह थपका देना।

सो जाऊँ,
तो जगा देना।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें