अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.05.2008
 
शाम
कुमार लव

जब दिन खत्म हो,
और सूरज डूबे,
देखना चाहता हूँ उसे,
तुम्हारे साथ

तुम्हारी गोद में सिर रख
हथेली माथे पर महसूस करते
सो जाना चाहता हूँ

पास ही रहना


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें