अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.05.2008
 
हूँ - 2
कुमार लव

आज,
जब पत्थर बरसे उसपर
पुकारा नहीं उसने मुझे।

मैं,
खाना बीच ही में छोड़कर,
उसकी मदद करने उठ चला।
पर
दरवाज़े तक
पहुँचकर,
मुझे वापस आना पड़ा।
उसने उठा लिया था पत्थर
अपनी मदद करने के लिए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें