कुमार लव


कविता

अभिषेक
आशा
उल्लंघन
ऊब
एक ख्वाब सा देखा है, ...
एकल
नियति
तो जगा देना।
बुभुक्षा
शव भक्षी
शाम
शोषण
सह-आश्रित
हर फिक्र को धुएँ में...
हूँ -1
हूँ - 2

हूँ / फ्रीडम हॉल