कुमार आशीष


कविता

सुध तेरी भूले मग कैसे