अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.16.2009
 
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ
कवि कुलवंत सिंह

छा रहे निराशा के बादल,
अंधियारा बढ़ रहा प्रतिपल ।
घुट-घुट कर जी रहा आदमी
आदमी नचा रहा आदमी ।

आशा के कुछ गीत सजा तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

मानवता लहू लुहान पड़ी,
बुद्धि चेतना से बनी बड़ी ।
रक्त पिपाशा है पशु समान,
हेय मनुज अन्य, निज अभिमान ।

सुन धरती का यह रोना तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

कर्म क्रूर, पाखण्ड, धूर्तता,
विध्वंस, वासना, दानवता ।
लुप्त मानव का जन से प्यार,
निज स्वार्थ वश करता संहार ।

जागरण के अब गीत गा तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

भोग में है खॊया इंसान,
भूल गया है स्नेह, बलिदान ।
उन्माद, शोषण, कुमति विचार,
बना यही मानव व्यवहार ।

पथ मानव को उचित बता तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

है जेबें भर रहे कुशासक,
जनता पिस रही क्यों नाहक ।
सुविधाओं की खस्ता हालत,
पग-पग, पल-पल जीवन आहत।

उनींदी आँखे खोल अब तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

अर्थ सभी कृत्यों का तल है,
ज्ञान, तेज, तप सब निर्बल है ।
विस्मित सभ्यता, मौन आघात,
कैसे मिटे यह काली रात ?

ज्योति पुंज कोई बिखरा तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

वाणी - अमृत, अंतर - विष है,
जीवन बना छल साजिश है ।
धमनी रक्त श्वेत हुआ है,
प्रस्तर मानव हृदय हुआ है ।

प्राणों में नव रुधिर बहा तूँ,
कवि अपना कर्तव्य निभा तूँ ।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें