अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.16.2017


माँ
(छन्द : माहिया)

माँ का घर में होना
चौरे पर दीपक
रोशन कोना-कोना।

हर उफ़्फ़ पर आह भरे
कितना बदलो तुम
माँ की ममता ना मरे।

दुख-दर्द सभी पीती
खोजे नेह सदा
घर की ख़ातिर जीती।

माँ छोड़ न तू डोरी
बचपन ज़िंदा रख
ना मरने दे लोरी।

माँ तेरे साय तले
लगते बिटिया को
तीज-त्योहार भले।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें