अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.30.2014


माँ-२ (हाइकु)

माँ दुआओं सी
महकी फिज़ाओं सी
तरू छाँव सी।

माँ अनमोल
मृदु जिसके बोल
ममता पगे।

कैसी अनोखी
माँ ममता लुटाए
तो चैन पाए।

प्रभु मूरत
घर बिराजे, खोजें
क्यों मंदिर में।

उफ ना करे
जले बन के दिया
सहती सेक।

उलझे जब
जीवन की गुत्थी माँ
तू देती युक्ति।

माँ सोंधी गंध
है प्यार भरी ब्यार
भीनी फुहार

पुतले सब
माटी के, पर माँ की
माटी विशेष

नेह प्रेम की
मूरत माँ छलके
सुधा कलश।

माँ चन्दन
माँ कपूर बनके
बाँटे महक।

खुश नसीब
पाएँ माँ की ममता
रहें करीब।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें