अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.30.2014


छुटपन

सुखद सलोने बचपन का
बाँका रूप अनूप
हँसी-खुशी ज़िद्द उछल-कूद
हैं छुटपन के प्रतिरूप

सच बचपन का जीवन साथी
प्रति पल लिखता अपनी थाती
पोथी पतरा कहाँ बाँचता
निज बुद्धि से सदा जाँचता

सरल सहज कितना निश्छल है
संशय से कुछ ना मतलब है
प्रेम बाँटता प्रेम माँगता
बचपन तो इक स्वयं धर्म है

बालमना कोरे कागज़ पर
उचित ज्ञान का रंग भरें
भोला-भाला बड़ा लचीला
शुद्ध सोच ममता से गढ़ें।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें