अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.06.2016


रोटी

रोटी
छिनाल होती है
घोड़े की लगाम होती है
टाटा की गुलाम होती है।

रोटी
मारवाड़ी का माप होती है
पेट में छुपा पाप होती है
युगोंयुगों का शाप होती है।

रोटी
इतिहास और भूगोल भी
गले का फांस और श्वास भी
पहेलियों से भरा आकाश और आभास भी।

रोटी
गवाह होती है धर्मयुद्धों की कर्मयुद्धों की
काग़ज़ पर धीरे से उतरनेवाली कविताओं की
और कविताओं में बोई गई विस्फोटों की।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें