अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

ममत्व के प्रश्न
किरण राजपुरोहित ’नितिला‘


जब आये तुम मेरे अंक
झूम उठे मेरे दिगंत
अधमुँदी पलकों में
मेरा नया अवतार मुस्काया,
देख तुम्हारी अकुलाहट
मची छाती में कुलबुलाहट
एकटक तकते मुझे साक्षात् पहचाना
जनम तब मैंने सार्थक जाना
अमृतपान किया जब तुमने
उस घड़ी ही ये जनम जिया
तृप्त स्मित मुस्कान जब छाई
ममत्व भरी मैं बौराई
मन ही मन वारि सौ बार
चूमा तुम्हें हजारों बार
प्रेम सजीव हो मुस्काया
जशोदा की गोद कान्हा आया,
मातृत्व से हुई मालामाल
कौंध उठे कई सवाल
कितने बरस रहेगा तुम्हारा बचपन,
नन्हे कंधे पर भारी बस्ता
कितना कम कर सकूँगी ?
बचा पाऊँगी संस्कृतियों की अंधी दौड़ से?
बंदूकों की धाँय धाँय,
गलियों के खूनी सन्नाटे को चीर
बिगुल बजाओगे
या झुका सिर विवश देखोगे?
तुम हालात बदलोगे या हालात तुम्हें ढाल देंगे
भीड़ में गुम हो जाओगे
या एक आगीवाण देखूँगी?
कितने ही साधारण बन जाना
किंतु घातक असाधारण न बनना
परिवार, कुल, देश का
कुमानुष न कहलाना!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें