अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.09.2007
 
राख
डॉ. कविता वाचक्नवी

राख
काली है
जलावन से बची है,

किन्तु चिंगारी बचाकर
रख सकेगी
ढाँप ले तो ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें