अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.09.2007
 
जंगल
डॉ. कविता वाचक्नवी

चीख को वनवास ही
केवल नहीं
वनचरों से
युद्ध भी तो
शेष हैं।




अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें