अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.09.2007
 
अश्रु
डॉ. कविता वाचक्नवी

इस चेहरे के अक्षर
गीले हैं,   सूरज !
कितना सोखो
सूखे,
और चमकते हैं ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें