अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
01.01.2015


हादसा - १०
अंतिम निर्णय

कन्या भ्रूण हत्या के सजीव 'हादसे' आदरणीय सुमन घई जी लड़ीवार साहित्य कुञ्ज में छाप रहे हैं, मैं आभारी हूँ। जैसे-जैसे कलम अपना दर्द कागज़ पर उलीक रही है, दबे, छिपे हादसे उभर कर आ रहे हैं। पाठकों की रुचि तथा मानव देह ने झेले ऐसे हृदय विदारक कष्ट बड़े........ कष्ट दायक हैं।
अब जिस परिवार की चर्चा मैं करने जा रही मेरा चिर परिचित नज़दीकी परिवार रहा है। कारण कोई भी समझें मेरे दिल के करीब है। प्राय: अपना दुःख सुख साँझा कर ही लेते हैं। 1990 में दो बेटों की शादी दो दिन के अंतराल में कर दी। ख़ुशी इस बात की कि वैवाहिक रस्में सादी निभा कर दोनों की स्वागत पार्टी एक ही दिन कर दी। घर व समाज में हर तरह की जय-जयकार हो गई। लगभग 15 मास के अंदर दोनों ही बहुओं की गोद फूल सी बेटियों से भर गई। सुंदर-सुंदर नाम दिए गए। जो घर पहले बहुओं के आने से भरा-भरा लगता था अब पोतियों ने अपनी लुभावनी हरकतों से चार चाँद लगा दिए थे।

लेकिन…दो तीन वर्ष बीतते ही अगली खबर वह भी बेटे की चाहत की दबी-दबी आवाज़ में आने लगी। बहुओं को हँसी मज़ाक में ससुराल वालों का संदेश मिलने लगा। समझदार को इशारा काफी, दोनों सोचने को विवश हो गईं। आपसी तालमेल अच्छा था तो कभी कभार परस्पर बात भी करतीं पर हल क्या? पूजा, अर्चना को दिनचर्या में स्थान दिया ताकि ईश्वर की कृपा हो जाए तथा 'तमन्ना का श्रृंगार' हो जाए। डरते-डरते ममता की 'पिटारी' पुन: खुल गई। एक बार तो ईश्वर का धन्यवाद किया। घर में ख़ुशी की लहर भी देखी गई लेकिन खबर तब तक बाहर नहीं निकलने दी जब तक कि 'टैस्ट'? यह एक पेचीदा सवाल था। घर में कुछ लोग हक में थे कुछ इसका विरोध कर रहे थे। नया मेहमान 'चाहा, अनचाहा' श्रृंगार कर रहा था। हैरानी! बड़ी बहू का मन धीरे-धीरे बना लिया गया। उसे यह कर समझाया गया कि 'तुम अकेली नहीं, तुम्हारे जैसी और बहुत हैं जो बड़ी जल्दी फैसला ले लेती हैं। आजकल एक बेटी ही बोझ है, दूसरी आ गई तो तुम और सचिन आजीवन दब कर रह जाओगे। कहते हैं एक ही बात दुहराने, समझाने या आग्रह करने पर पत्थर दिल भी पिघल जाते हैं। वैसे भी उन दिनों यह 'धंधा' बेख़ौफ़ चल रहा था। आप विश्वास करें एक स्कैंनिंग सैंटर पर तो मैंने गाँव के औरतों की काफी भीड़ अपनी आँखों से देखी है कारण उन दिनों 'अच्छी' कमाई का यह बढ़िया साधन था।

बस फिर क्या बहू नेहा ने हथियार डाल दिए। 'ज्ञान' उसके अंदर समा गया, ममता को ग्रहण लग गया। बेचारी दुविधा से बाहर निकलना चाह रही थी तो उसने मिले-जुले फैसले को अंतिम निर्णय की मुहर से अपनी मुट्ठी खोल दी। जिस नन्ही जान को 'मुसीबत' की संज्ञा मिली थी उस से निजात पाने के लिए डॉ. से समय लेकर हमेशा..... के लिए छुटकारा मिल गया था। न मालूम क्यों, कभी-कभी फुर्सत में बैठे मुझे लगता है जैसे वह मेरे कान में चुपके से कह रही हो ''आँटी देखो मैं अब जवान हो गई हूँ, सुंदर लग रही हूँ न"? काश! ऐसा हो सकता? आह !.……ना.… मुमकिन!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें