डॉ. कविता भट्ट

कविता
उन पाप के नोटों का क्या होगा?
बूढ़ा पहाड़ी घर
वह अब भी ढो रही है
वो धोतीपगड़ी वाला