कपिल अनिरुद्ध


कविता

एक बरार सवा लाख के
करुण वेदना उन की सुन...