डॉ. कन्हैया त्रिपाठी

नाटक
ज़हर का पौधा