अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.04.2016


हाइकु

1.
वक्त की गर्द
भले ढके स्मृतियाँ
रहें दूब-सी।
2.
अमिट यादें
उर सिन्धु में रहें
टापू -सी बसीं।
3.
मन पखेरू
बैठा पंखों पे हमें
घुमाये विश्व।
4.
मन भीतर
है विषम संसार
उलझे जीव।
5.
प्रेम उपजे
सृष्टि सुहानी लगे
दो दिल मिले।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें